Express and Explore Yourself

तस्वीर पर क्लिक करें

Showing posts with label वर्दी वाले गुंडे. Show all posts
Showing posts with label वर्दी वाले गुंडे. Show all posts

यह हिंदी वाला एनकाउंटर है, जो 'होता' नहीं 'किया जाता' है...जैसे प्यार किया नहीं जाता, हो जाता है !

- सुधींद्र मोहन शर्मा "हो जाता है प्यार, प्यार किया नही जाता" आज ये पुराना गाना क्यों याद आ रहा है , यार !!! अंग्...

दिए जलाओ, नगाड़े बजाओ, विकास को न्याय मिल गया, न्यू इंडिया में आपका स्वागत है!

- मनीष सिंह इंस्टंट न्याय.... न कोर्ट, न पेशी, न जज, न जल्लाद, ये एनकाउंटर न्याय है बबुआ। भारत अब वो भारत नही जो टीवी पर गोलियां ब...

वो कौन हैं जो चाहते थे विकास दुबे जिंदा न रहे, किसके लिए मुसीबत बन सकता था विकास दुबे?

- रोहित देवेंद्र शांडिल्य इसमें कोई शक नहीं है कि विकास दुबे की पुलिस कस्टडी में हत्या की गई. शक इसमें भी नहीं है कि वह अपराधी था।...

विकास दुबे एनकाउंटर: कानपुर पुलिस का बदला तो पूरा हुआ, लेकिन असल चुनौती अभी बाकी है

-विजय शंकर सिंह कानून के हांथ बहुत लंबे होते हैं। कभी कभी इतने लंबे कि, कब किसकी गर्दन के इर्दगिर्द आ जाएं पता ही नहीं चलता है। ए...

अपराधी-पुलिस गठजोड़ और मुखबिरी एक नहीं, हर थाने की बात है, कहीं भी देख लीजिए !

- समीरात्मज मिश्र 'विकास दुबे का जो भी आपराधिक इतिहास दिख रहा है, उससे कम से कम कानपुर ज़िले की पुलिस तो वाकिफ़ रही ही होगी. न...

क्या हमारे नेताओं में राजनीति का अपराधीकरण रोकने की इच्छाशक्ति है?

- विजय शंकर सिंह क्या सभी राजनीतिक दल अपराधियों को टिकट न देने और उनसे चुनाव में कोई सहायता न लेने पर संकल्पबद्ध हो सकते हैं ? अगर ...

विकास दुबे एनकाउंटर: किसको डर और किससे डर? अब तक कितने शहीद पुलिसवालों को इंसाफ मिला?

- धीरेश सैनी विकास दुबे को लेकर कुछ स्टेटमेंट्स पढ़े। राज़ खुल जाने का डर और पुलिस ने बदला लिया, इन बिंदुओं पर काफ़ी कुछ लिखा दिखाई दि...

फर्जी एनकाउंटर पर यूपी पुलिस के एक पूर्व डीआईजी का ये अनुभव वाकई पढ़ने लायक है!

- बद्री प्रसाद सिंह अहमक अपने तथा दानिश दूसरों के अनुभव से सीखता है। यह लेख दानिशमंदों (बुद्धिमानों) को समर्पित है जिसे मुझ जैसे अह...

Police’s brutal act of revenge: Tamil Nadu orders CBI probe into Thoothukudi custodial death

Salem, Tamil Nadu  (VOM News) : The Tamil Nadu government has decided to trasfer the probe into the death of a father-son duo, alle...

हिरासत में हत्याएं करने और बेकसूरों को फंसाने वाली पुलिस में सुधार की उम्मीद बेमानी है

- मुकेश असीम जयराज-बेनिक्स की नृशंस हत्या के बाद 'पुलिस सुधार' वाले फिर सक्रिय हो गए हैं, पर मुझे सबसे बकवास लोग यही लगते ...

तमिलनाडु कस्टोडियल डेथ : टॉर्चर की सारी हदें पार करने वालों की सजाा सिर्फ निलंबन और ट्रांसफर?

- पूनम लाल एक अश्वेत गोरे पुलिस की नफ़रत के चलते घुटनों तले दम तोड़ देता है तो पूरा देश कोरोना के भय के चलते भी बेख़ौफ़ निकल विरोध कर...