Express and Explore Yourself

तस्वीर पर क्लिक करें

कोरोना की दवा पर पतंजलि का झूठ: रिकॉर्ड देखकर नहीं लगता कि बाबा रामदेव का कुछ बिगड़ेगा !

-कृष्णकांत पहले बाबा रामदेव कह रहे थे कि नाक में सरसों का तेल डालने से कोरोना मर जाएगा। अब कह रहे हैं कि कोरोनिल खाने से कोरोना ...

'गुलाबो सिताबो' के बाद OTT प्लेटफॉर्म पर मनोज वाजपेयी की फिल्म, 26 जून को SonyLIV पर 'भोंसले'

दिल्ली। अमिताभ बच्चन की मराठी फ़िल्म एबी अणि सीडी प्रोड्यूस कर चर्चा में आए प्रोड्यूसर पीयूष सिंह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म सोनी लिव...

फ़िल्म समीक्षा : समाज के वर्गीय चरित्र और उनके संघर्ष का रूपक है 'चमन बहार'

- आशुतोष तिवारी फ़िल्म में एक दृश्य है। स्कूल से घर के रास्ते पर स्कूटी दौड़ रही है। स्कूटी चला रही है रिंकू, सम्पन्न घर की एक लड़...

हे भगवान ! ऐसा अजब मरीज किसी डॉक्टर को ना ही मिले तो अच्छा !

-असीम तिवारी डॉक्टर साब नाम अस्ते नाम अस्ते नही नमस्ते होता है होता होगा हमने तो नाम बताया अपना अस्ते नाम है तुम्हारा? ...

'शहादत' और 'देशभक्ति' की आड़ लेकर नागरिकों के प्रति जिम्मेदारी से कब तक बचेंगी सरकारें?

- पुनीत शुक्ला सभी देशों के नागरिकों को अपनी-अपनी सरकारों से ये सवाल करना चाहिये कि युद्ध की स्थिति क्यों पैदा होने देते हैं? डि...

'अगर आप वर्ग विशेष से नफरत नहीं करते तो भाजपा को पसंद करने की कोई और वजह नहीं'

- अंकित द्विवेदी अगर आप किसी हिन्दू राष्ट्र के समर्थक नहीं है या आपके दिल में किसी वर्ग विशेष के लोगों के लिए नफरत नहीं है तो फि...

भारत बनाम चीन: युद्ध को ग्लैमराइज मत करिये, जुमले सिर्फ चुनावी रैलियों तक ही ठीक हैं !

- रोहित देवेंद्र शांडिल्य ' युद्ध को फैटेंसाइज , ग्लैमराइज मत कीजिए। पाकिस्तान या चीन या हम खुद भी मोहल्लों के गैंग नहीं ह...

चीनी सामान का बॉयकाट करिये, लेकिन यह भी तो देख लीजिए कि आप कितने पानी में हैं !

- शंभूनाथ शुक्ल चलिए, चीनी माल का बॉयकाट करिए, मैं भी आपके साथ हूँ। उनके टीवी, मोबाइल, इलेक्ट्रानिक सामान, खिलौने और उनके द्वारा...

बॉलीवुड में नेपोटिज्म का शोर मचाने वाले क्या खुद किसी नए चेहरे के साथ काम करना चाहते हैं?

मुुंबई : फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या को लेकर इस समय फिल्म जगत में उबाल तो है ही राजनीतिक गलियारों और आम जनम...

फिल्म समीक्षा: 'गुलाबो सिताबो' का हर फ्रेम जैसे अपने अंदर एक अलग कहानी लिए हुए है

-कुश वैष्णव सेल्युलाइड पर कविता है फ़िल्म 'गुलाबो सिताबो'। पीकू और अक्टूबर के बाद शूजित साबित करते हैं कि सिनेमा निर्देशक...

करण जौहर के बारे में ये सब पढ़कर कहीं आपको मोदी जी की याद तो नहीं आ रही है?

- कुश वैष्णव आज हम करण जौहर और मोदीजी पर बात करेंगे।  पहले हम बात करते हैं करण जौहर की। एक समय पर करण जौहर आदित्य चोपड़ा के दोस्त...

कृष्णा रूमी का सस्पेंस थ्रिलर: पंजाब से यूपी पहुंची प्रेम कहानी का क्या हुआ अंजाम?

- कृष्णा रूमी चेतराम नाम का व्यक्ति पंजाब में एक भट्टे पर काम करता था।  चेतराम का परिवार उत्तर प्रदेश में पाली से था जो काम के लिए...

निजीकरण के दौर में चीन से मुकाबला मुश्किल, हमें बड़ी लकीर खींचनी होगी

-गिरीश मालवीय चीन के साथ तनातनी के बीच केंद्र सरकार ने BSNL और MTNL में किसी भी चीनी उपकरण के प्रयोग पर तत्काल रोक लगा दी, लेकिन ...

चीन भारत के लिए पड़ोसी तो रहा, दोस्त कभी नहीं, आत्ममुग्ध मोदी सरकार ये नहीं समझ सकी !

- धनंजय कुमार चीन धोखेबाज़ और साम्राज्यवादी देश है. ये बार बार साबित हुआ है. भारत को ये अनुभव 1962 में खूब अच्छे से हो गया था, इसीलिये ब...

फिल्म समीक्षा: 'गुलाबो सिताबो' लाजवाब है, ये हमारे समाज की हिप्पोक्रेसी को खोलती है

- शंभूनाथ शुक्ल 12 जून को जब सुजित सरकार की फ़िल्म गुलाबो-सिताबो prime video पर रिलीज़ हुई तब उसी दिन देखने का मन था। लेकिन फिल्...

मिथुन चक्रवती, जिसने नायक से लेकर खलनायक तक हर किरदार में खुद को साबित किया

- नितिन ठाकुर गैरांग चक्रवर्ती। दूसरा नाम मिथुन चक्रवर्ती। 1982 की डिस्को डांसर का जिम्मी। इस जिम्मी की शोहरत ऐसी थी कि सोवियत यूनियन...

वॉलीवुड में नेपोटिज्म की बहस: कामयाबी मिलने के बाद कंगना ने जो किया वह क्या है?

- उमाशंकर सिंह बहुत सारे लोग सुशांत की मौत के पीछे बॉलीवुड के किसी गैंग द्वारा उसे कॉर्नर किया जाना बता रहे हैं। बॉलीवुड में नेपोटिज्म...

जेएनयू की अहमियत सिर्फ वही समझ सकते हैं जिन्होंने इस यूनिवर्सिटी को नजदीक से जाना है

- पल्लवी प्रकाश 2012  के आखिरी महीनों में ( अक्टूबर या नवम्बर) में मेरे पास एक बार किसी प्राइवेट यूनिवर्सिटी से इंटरव्यू के लिए कॉ...

आपदा में अवसर : कोरोना की रिपोर्ट निजी लैब में पॉजिटिव, सरकारी अस्पताल में निगेटिव !

- धीरज फूलमति सिंह भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी हमेशा कहते रहते है कि आपदा मे भी अवसर छुपा होता है। भारत मे कोरोना आपद...